Hindi LyrIcs

Aaj Jaane Ki Zid Na Karo Lyrics

Aaj Jaane Ki Zid Na Karo Lyrics
Aaj Jaane Ki Zid Na Karo Lyrics

Aaj Jaane Ki Zid Na Karo Song Is Sung by Farida Khanum in 1978 . Aaj Jaane Ki Zid Na Karo Song Lyrics written by Mr. Fayyaz Hashmi. In 2016 Aaj Jaane Ki Zid Na Karo Recreated by Pritam and voiced by Shilpa Rao for Ae Dil Hai Mushkil  Movie .

Song : Aaj Jaane Ki Zid Na Karo
Singers : Farida Khanum (1978) , Amit Mishra, Shilpa Rao (2016)
Lyricist : Mr. Fayyaz Hashmi
Label: EMI Pakistan
Composition by – Mr. Sohail Rana
Genre: World Music

Aaj Jaane Ki Zid Na Karo Lyrics :

aaj jaane kee zid na karo (3)
yoon hee pehlu mein baithe raho (2)
aaj jaane kee zid na karo
haay mar jaayenge,
ham toh lut jaayenge
aisee baaten kiya na karo
aaj jaane kee zid na karo (2)
haay mar jaayenge,
ham toh lut jaayenge
aisee baate kiya naa karo,
aaj jaane kee jid naa karo

tum hee socho jara,
kyoon na roken tumhen
jaan jaatee hai jab uthake jaate ho tum (2)
tumko apanee kasam jaanejan,
baat itanee meree maan lo
aaj jaane kee zid na karo,
yoon hee pehlu mein baithe raho (2)
aaj jaane kee zid na karo,
hay mar jayenge ham toh lut jaayenge
aaj jaane kee zid na karo (2)

wakt kee kaid me jindagee hai magar (2)
chand ghadiya yahee hain jo aajaad hain (2)
inako khokar mere jaaneja,
umrr bhar naa tarasate raho
aaj jaane kee jid naa karo,
hay mar jayenge ham toh lut jaayenge
aaj jaane kee zid na karo,
aaj jaane kee zid na karo

kitna maasum rangin hai yeh sama
husn aur ishk kee aaj me raaj hai (2)
kal kee kisko khabar jaanejaan,
rok lo aaj kee raat ko
aaj jaane kee zid na karo,
yoon hee pehlu mein baithe raho (2)
aaj jaane kee zid na karo,
haay mar jayenge ham toh lut jaayenge
aisee baate kiya naa karo,
aaj jaane kee zid na karo

Aaj Jaane Ki Zid Na Karo Lyrics Hindi :

आज जाने की ज़िद ना करो

आज जाने की ज़िद ना करो
यूँ ही पहलु में बैठे रहो
आज जाने की ज़िद न करो

हाय मर जाएंगे
हम तो लुट जाएंगे
ऐसी बातें किया ना करो
आज जाने की ज़िद ना करो

हाय मर जाएंगे
हम तो लुट जाएंगे
ऐसी बातें किया ना करो
आज जाने की ज़िद ना करो

तुम ही सोचो ज़रा
क्यूँ ना रोकें तुम्हें
जान जाती है जब
उठ के जाते हो तुम
जान जाती है जब
उठ के जाते हो तुम
तुमको अपनी क़सम जानेजां
बात इतनी मेरी मान लो

आज जाने की ज़िद ना करो
यूं ही पहलु में बैठे रहो
आज जाने की ज़िद ना करो
हाय मर जाएंगे
हम तो लुट जाएंगे
ऐसी बातें किया ना करो
आज जाने की ज़िद ना करो

वक़्त की कैद में ज़िन्दगी है मगर
चंद घड़ियां यही हैं जो आज़ाद है
इनको खो कर मेरी जानेजाँ
उम्र भर ना तरसते रहो
आज जाने की ज़िद ना करो
हाय मर जाएंगे
हम तो लुट जाएंगे
ऐसी बातें किया ना करो
आज जाने की ज़िद ना करो

कितना मासूम रंगीन है ये समां
हुस्न और इश्क़ की आज बैराज है
कल की किसको ख़बर जानेजाँ
रोक लो आज की रात को
आज जाने की ज़िद ना करो
यूँ ही पहलु में बैठे रहो
आज जाने की ज़िद ना करो
हाय मर जाएंगे
हम तो लुट जाएंगे
ऐसी बातें किया ना करो
आज जाने की ज़िद ना करो

Show More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close